9/4/09

नीली छांह...


नीली स्याही... नीला कागज...
नीला बादल... नीला दु:ख...
नीली आंखों वाली की हर याद बहुत नीली है...

नीला सरगम... नीला पंचम...
नीली बातें... नीला चुप...
नीले-नीले जीवन की हर सांस बहुत नीली है...

लिख-लिख कर कागज पर सपने,
आग लगाए हाथों से...
जलते नीले सपनों की ये आग बहुत नीली है...

अब सूरज का बंद हुआ है,
मेरे घर आना जाना...
और तभी से इस कमरे की रात बहुत नीली है...

नीले पत्ते... नीली खुशबू...
नीली मिट्टी... नीली छांह...
मेरे रोपे हर पौधे की शाख बहुत नीली है...

नीला हंसना... नीला रोना...
नीला नीला कह देना...
अक्षय-अक्षय तेरी-मेरी, जात बहुत नीली है...

देवेश वशिष्ठ खबरी...

10 टिप्‍पणियां:

  1. नीले नीले शब्द चित्र को देखा तो मदहोश।
    नीला नभ है नीला सागर और नीला आगोश।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. अम्बर नीला नीला सागर नीले पर्वत नीली आभा
    सुंदर है !
    अब नीला फीता ,नीली फिल्में ,नीला रिबन
    कुछ गड़बड़ है !
    और नीली किताब ? हमें मैनर सिखाती है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या अंदाजे बयां है वाह मैं तो कायल हूं आपका

    उत्तर देंहटाएं
  4. देवेश जी , सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहूत खूबसूरत रचना है ...............नीले गगन जैसी विशाल सोच और नीले सागर जैसे गहरी रचना.............
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया देव. सुंदर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  7. Neali is kavita ki chaap bahut neali hai,
    Neali khushiya ho apki ye dua neali hai.
    Neali safalta ho apki,neali ho roshni,
    Neale is rishte ki har sans bahut neali hai.

    उत्तर देंहटाएं
  8. neela ambar,neela samundar,zindgi ka bhawar bhi neela h.....apke kaalam k samaksh merai shabaad feeke c h...since starting u use to b a great writer nw a tremendanous writer....dil choo gayi apki lines."likh-2 kar kagaj k sapne"....good gng man....

    उत्तर देंहटाएं