19/5/11

बुरा हुआ...


मत करो बाई पास डाकदर साहब...
ऐसे ही रहने दो कुछ दिन और...
दिल से खुरचकर निकाला हिस्सा
ज्यादा सताता है मरने से... !
----------------------

एक हिस्सा था, भीतर तक गहरा जुड़ा हुआ...
था...! है नहीं अब...
बुरा हुआ...

-------------
उसके सारे सपनों की न्यौछावर लेकर
बनना दूल्हा...
खूब रस्म निभी...
खूब कीमत चुकी...
----------------

देवेश वशिष्ठ 'खबरी'

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें