23/10/20

ए भाई! जरा समझाई… ये मौत कैसी होगी ?

ए भाई! जरा समझाई ये मौत कैसी होगी ?


जब कुछ असर न करे

गुजर-बसर न करे

सब अनमना सा हो

कोई फिकर न करे

जैसा है... बिल्कुल ऐसी ही होगी ?

ए भाई! जरा समझाई ये मौत कैसी होगी ?

 

कमाई का मन न हो

खरच को धन न हो

दुश्मनी भी करें किससे

कुचलने को फन न हो

जो कटे जा रहा है... उस वक्त जैसी होगी ?

ए भाई! जरा समझाई ये मौत कैसी होगी ?

 

टूटने का गम न हो

जोड़ने को हम न हो

खो गया सो खो गया

ढूंढ़ने का दम न हो

जो छूट गया पहाड़ पर.. पत्थर जैसी होगी ?

ए भाई! जरा समझाई ये मौत कैसी होगी ?

 

रात-रात भर घिसता कालिख

सुबह-सुबह मर जाता हैं

कैसे-कैसे भाव उमड़ते

शब्द कहां जुड़ पाता हैं

लिखी सकी ना कभी जो कविता... बिल्कुल वैसी होगी ?

ए भाई! जरा समझाई ये मौत कैसी होगी ?

 

जैसी भी हो.. बनी रहे घर

फुर्सत कब है मरने की

कोई रस्ता.. या.. ना हो

चला-चली बस चलने की

पांव तले जो लगा था टूटा... चक्के जैसी होगी ?

ए भाई! जरा समझाई ये मौत कैसी होगी ?

 

- देवेश वशिष्ठ 'खबरी'

रात 11.53 बजे (22 अक्टूबर 2020, ग्रे.नोएडा)



2 टिप्‍पणियां:

  1. dear sir me में एक छोटा आदमी हूँ और आप के ब्लॉग को गूगल से मेने धोंडा है आप में ताज़ा खबर की आप के ब्लॉग में बेक लिंक बना रखी है भाई जी मेरा भी ब्लॉग है तो आप मुझे एक सहायता कर सकते है मेरे ब्लाक की back link आप अपने ब्लॉग में लगा सकते है और आप के ब्लॉग की back link में अपने ब्लॉग में लगा दूंगा https://tazaa-khabar.blogspot.com ये है मेरी Why should petrol, diesel be brought under GST? Tazaa Khabar

    जवाब देंहटाएं